बारिश तुम आओगी न इस बार - मनीष गोधा


बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और पूरा भिगो देना
हमारा बहुत कुछ सूख चुका है इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और जरूरत जितना ही बरसना
हमारा बहुत कुछ बह भी चुका है इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और कीट पतंगों को दोस्त बना कर लाना
हमारे घरों में पहले ही दुश्मन बैठा है इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और भुट्टों को मीठा कर जाना
हमारे आम और जामुन का स्वाद खारा था इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और हमारी दीवाली सुधार जाना
हमारी गणगौर और ईद बिगड़ चुकी है इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और लोगों से मिलने का मौसम बनाना
हम आपस में बहुत दूर हो चुके है इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना, और उम्मीद बन कर बरसना
हम दूसरों से नाउम्मीद हो कर घरों को लौटे है  इस बार

बारिश तुम आओगी न इस बार
देखो जरूर आना

मनीष गोधा
Share on Google Plus

About ITS INDIA

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें