छात्रों के लिए लाॅन्च किया ‘डाउट क्लियरिंग ऐप’


नई दिल्ली कोरोना वायरस महामारी के बीच छात्रो को उनकी पढ़ाई मे सहयोग प्रदान करने केे लिए बेसिक फस्र्ट लर्निंग ओपीसी प्रा. लिमिटेड ने बेसिक फस्र्ट डाउट क्लियरिंग ऐप के नए वर्ज़न का लाॅन्च किया है, जहां इन-ऐप चैट के ज़रिए समस्या के समाधान में औसतन 32 मिनट लगते हैं।इस पर अध्यापक सुबह 8 बजे से रात 11 बजे तक उपलब्ध रहते हैं, जो सुनिश्चित करते है कि छात्रों को किसी भी समय उनकेे हर सवाल का जवाब जल्द से जल्द मिले।

यह डाउट क्लियरिंग ऐप भारत का पहला प्लेटफाॅर्म है जहां छात्र लाईव सैशन्स केे माध्यम से इन-ऐप चैटिंग के ज़रिए अनुभवी अध्यापकों की मदद से अपने सवाल हल कर सकते हैं। बेसिक फस्र्ट सभी बोडर््स (सीबीएसई, आईसीएसई, आईजीसीएसई एवं अन्य राज्य बोर्ड जैसे महाराष्ट्र, कर्नाटक, झारखण्ड और बिहार) के छठी से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों एवं सभी मुख्य प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे आईआईटीमेन, जेईई अडवान्स, एनईईटी, एम्स, एनटीएसई, ओलम्पियाड आदि के छात्रो ंको अपनी सुविधाएं प्रदान करता है।

बेसिक फस्र्ट डाउट क्लियरिंग ऐप कि फ़ायती मासिक सब्सक्रिप्शन पर छात्रों की ज़रूरतों को पूरा करता है। बेसिक फस्र्ट अपने सभी पैकेजेज़ पर 14 दिनो ंका ट्रायल देता है, जिसके बाद छात्र सवाल की जटिलता के आधार पर मात्र 0.75 रु से 3 रु की लागत पर अपने सवाल हल कर सकत ेहैं।

ऐप के लाॅन्च पर रणधीर कुमार, संस्थापक, सीईओ एवं चीफ़ मेंटर-बेसिक फस्र्ट लर्निंग ओपीसी प्रा. लिमिटेड ने कहा, ‘‘कोरोनावायरस के चलते सभी शैक्षणिक संस्थान बंद हैं और परीक्षाएं भी रोक दी गई हैं, ऐसे में पूरी शिक्षा प्रणाली थम गई है, इन सब के बीच क्या आप छात्रों की स्थिति का अंदाज़ा लगा सकते है ? हम छात्रो को ऐसा इंटरै क्टिव प्लेटफाॅर्म उपलब्ध कराना चाहते हैं, जिसकी मदद से वे अपने अकादमिक लक्ष्यों की ओर बढ़ सकें तथा अपने सवालो को आसानी से हल कर सकें। हम हमेशा से छात्रो को प्राथमिकता देते आए हैं, इसलिए हम चाहते है किलर्निंग की पूरी प्रक्रिया छात्रों के लिए सहज एवं तनाव मुक्त हो जाए।’’

ब्सिक फस्र्ट ने ‘रैफर एण्ड अर्न’ सिस्टम भी पेश किया है, जिसमे ंछात्र अपने दोस्तो को बेसिक फस्र्ट ऐप के लिए इन्वाईट कर रैफरल पाॅइन्ट्स पा सकते हैं। ये पाॅइन्ट विभिन्न विकल्पों के लिए रीडीम किए जा सकते हैं। इसके अलावा छात्रों के पास ऐप के ज़रिए ये पाॅइन्ट डोनेट करने का विकल्प भी होता है।बेसिक फस्र्ट इस राशि को एनजीओ को दान में देता है।
Share on Google Plus

About ITS INDIA

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें